IPO क्या है आईपीओ के फायदे और नुकसान हिंदी में_1

IPO Kya hai : बहुत से लोगो का मानना है की पैसा कमाना दुनिया का सबसे मुश्किल काम है लेकिन दूसरी तरफ ऐसे भी लोग है जिन्हे सिर्फ पैसे कमाना ही आसान लगता है तो आज के इस लेख में हम ऐसे ही टॉपिक के बारे में बात करने वाले है जिस से आप सिर्फ 15 से 25 दिन के time पीरियड में अच्छे पैसे कमा सकते है

अपने सही समझा आज के लेख में हम आईपीओ के बारे में सम्पूर्ण जानकारी हिंदी में जानने वाले है भारत के बहुत से लोग शेयर मार्किट से डरते है लेकिन आईपीओ उन लोगो के लिए असरदार साबित हुआ है सिर्फ कुछ ही दिनों में आप उस कंपनी के आईपीओ से अच्छे पैसे कमा कर exit कर सकते हो तो अगर आप भी त्यार है

शेयर मार्किट से बिना किसी risk के पैसे कमाने के लिए तो चलिए आज की पोस्ट में हम आईपीओ क्या है आईपीओ में निवेश कैसे करे आईपीओ से अच्छे पैसे कैसे कमाये जानने वाले है आईपीओ की पूरी जानकारी के लिए लेख को अंत तक जरूर पड़े

आईपीओ क्या है (What is IPO in hindi )

ज़ब कोई कंपनी अपनी सामान्य शेयर को पहली बार आम जनता के लिए जारी करती है तो उसे आईपीओ यानी ( Initial Public Offering ) कहा जाता है Initial Public offering को ही short फॉर्म में आईपीओ कहा जाता है

IPO
आईपीओ क्या है

आईपीओ को ज्यादातर उन कंपनियों के द्वारा लॉन्च किया जाता है जो सार्वजनिक बाजार में ट्रेड करना चाहती है ताकि उन कंपनियों के shares बाजार में सुचिब्द हो सके. आईपीओ के जरिये एक प्राइवेट कंपनी को public कंपनी में तब्दील किया जाता है ज़ब जनता के लिए शेयर जारी किये जाते है

तो कंपनी बिना किसी परेशानी के पूंजी को एकत्रित कर पाती है और जनता को उस इन्वेस्टमेंट पर return अर्जित करने का अवसर मिलता है आमतौर पर ज्यादा बड़े आईपीओ में इन्वेस्टमेंट Banks के किसी समूह के द्वारा की जाती है जिसका संचालन एक या अधिक बड़े investor कर रहे होते है

Types Of IPO ( आईपीओ के प्रकार )

आईपीओ दो प्रकार का होता है

. Fixed Price Offering ( निर्धारित मूल्य ऑफर )

जो भी प्राइवेट कंपनी सार्वजनिक कंपनी में बदलती है तो उसे एक मूल्य तय करना होता है जिसके तहत investor को यह shares ऑफर किये जाते है कंपनी के share बाजार में आने से पहले ही निवेश share के मूल्य जानते है इस तरफ सभी investor को इस ipo को आवेदन करते समय share की पूरी क़ीमत चुकानी पड़ती है

. Book Building Offering ( बुक बिल्डिंग ऑफर )

इस तरह के ipo के अंतर्गत कम्पनिया निवेशकों को 20% तक price बैंड प्रदान करवाती है Price बैंड तय होने के बाद ही किसी ipo को जारी किया जाता है अंतिम क़ीमत तय होने से पहले investor share पर बोली लगाते है investor को यह सुनिश्चित करना होता है की वो कितनी मात्रा में shares को खरीदना चाहते है और कितनी इन्वेस्टमेंट के लिए वो त्यार है

जिस share की क़ीमत सबसे कम होती है उसे Floor Price कहते है जो share सबसे अधिक क़ीमत का होता है उसे CapPrice कहा जाता है

IPO में निवेश कैसे करे

कोई भी कंपनी अपने ipo को इन्वेस्टर्स के लिए 3-10 दिनों के लिए open करती है निर्धारित दिनों में investor को उस ipo में अप्लाई करना होता है अगर बिच में कोई सार्वजनिक अवकाश हो तो ipo को ज्यादा समय open रखा नाता है

आपको ipo को देखते हुए उसमें इन्वेस्टमेंट करनी होती है अगर ipo fixed price है तो आपको उसी price के लिए ipo में अप्लाई करना होता है लेकिन अगर Book बिल्डिंग ipo है तो आपको उसी इशू पर बिड लगानी होती है किसी भी ipo में निवेश करने के लिए आपकद पास Demat Account होने अनिवार्य है निचे दिए गए Best ब्रोकर के साथ आप अपना अकाउंट open करके ipo में निवेश शुरू कर सकते है

Join Telegram

आईपीओ से पैसे कैसे कमाय

आईपीओ से पैसे कमाने के लिए आपको कुछ बातो का विशेष ध्यान रखना होता है आपको किसी भी आईपीओ या किसी भी कंपनी में निवेश नहीं कर देना है किसी भी आईपीओ में निवेश करने से पहले आपको उसकी अच्छे से जाँच करनी होती है

ज़ब आप अपनी जानकारी के तहत संतुस्ट हो जाए तो आप जितना पैसे होल्ड करना चाहे उतना उस आईपीओ में निवेश कर सकते है अगर आपकी जानकारी अच्छी होंगी तो मुबारक हो आप उस कंपनी से अच्छे पैसे कमा सकते है

लेकिन आपकी जानकारी अगर सही नहीं है तो आप उस आईपीओ में अपने पैसे गवा भी सकते है

आईपीओ अलॉटमेंट प्रोसेस (

आईपीओ की ओपनिंग बंद हो जाने के बाद कम्पनिया अलॉटमेंट तय करती है आईपीओ अलॉट करने के बाद कंपनी के share share बाजार में लिस्ट हो जाते है ज़ब तक कंपनी के share बाजार में लिस्ट नहीं होते है उन्हें बेचा नहीं जा सकता Share के बाजार में लिस्ट होने के बाद ही उन्हें बाजार के नियों के तहत खरीद और बेच सकते है

कंपनी के share ज़ब बाजार में लिस्ट होते है तो उन्हें Secondary Market में खरीदा और बेचा जा सकता है अब आप सोच रहे होंगे की यह secondary market क्या है आमतौर पर Share बाजार में 2 तरह से इन्वेस्टमेंट की जाती है ज़ब आप आईपीओ के माध्यम से निवेश करते है तो उसे Primary Market कहा जाता है Share बाजार में लिस्ट हुई कंपनियों में ज़ब आप निवेश करते है तो उसे Secondary Market कहा जाता है

Advantage of IPO ( आईपीओ के फायदे )

# समय की बर्बादी

आईपीओ में बहुत समय खराब होता है Normally अगर किसी IPO को लॉन्च किया जाता है तो उसे छै से नो महीने का समय लगता है

# आईपीओ का फाइलिंग खर्च

किसी भी व्यवसाय के लिए IPO दर्ज करना मेहंगा होता है क्युकी इसमें पेशकश की दाखिल करने की प्रकिर्या कंपनी के लिए काफी महंगीसाबित होती है

# जोखिम से भरा होता है

किसी IPO का यह निश्चित नहीं होता है की यह आपको ज्यादा return ही देगा बहुत से IPO में ज्यादा loss का भी सामना करना पड़ सकता है

# SEBI के नियमों का पालन करण पड़ता है

किसी IPO को लाने se पहले कंपनी को अपना डाटा SEBI के साथ साझा करना पड़ता है ज़ब SEBI सारे डाटा को verify कर कंपनी को आईपीओ लाने की अनुमति देती है कंपनी को SEBI के नियमोंके अंतर्गत काम करना पड़ता है

DisAdvantage of ipo ( आईपीओ के नुकसान )

# कंपनी कर्ज से मुक्त हो पाती है

किसी भी कंपनी ज़ब ज्यादा कर्ज देना होता है तो वह उस कर्ज को चुकाने के लिए आम जनता से Ipo के अंतर्गत पैसे एकत्रित कर अपने कर्ज से मुक्ति पाती है

# Investor के लिए शानदार मौका

किसी भी Investor के लिए शुरुवात में Share Market से पैसे कमाना बहुत मुश्किल काम होता है लेकिन वह कम निवेश करके किसी अच्छे ipo में इन्वेस्टमेंट करके अच्छे पैसे कमा सकता है

# कंपनी बाजार में लिस्ट हो पाती है

कोई भी कंपनी इस लिए ipo लेकर आती है ताकि उस share या stock बाजार में सुचिब्द हो सके

# कर्ज नहीं लेना पड़ता

कंपनी अपने कारोबार को बढ़ाने के लिए bank से लोन ले सकती है लेकिन कंपनी को वह कर्ज ब्याज के साथ चुकाना पड़ता है लेकिन ipo से जुटाय हुए पैसे सारे कंपनी के होते है

Conclusion

इस लेख के द्वारा हमने IPO kya hai के बारे में जानकारी प्राप्त की है Share market में अगर आप नए है तो आप IPO से पैसे कमाने की शुरुवात कर सकते है Share market जोखिम से भरा है इसलिए कोई भी इन्वेस्टमेंट अपने जोखिम पर करे अगर आपका कोई भी सवाल IPO से केकर रह गया है तो आप हमसे कमेंट section में लुक सकते है

मैं Securehindi का founder हूँ मैं BCA का student हूँ इसीलिए मैं इस ब्लॉग के माध्यम से हर भारतीय तक इन्वेस्टमेंट, ब्लॉकचैन, Crypto, की जानकारी को हिंदी मैं पहुंचना चाहता हूँ अगर आप इन सब के बारे में जानने के लिए इच्छुक है तो हमें अभी फॉलो करे

Leave a comment

P2P Crypto Exchange क्या है P2P Network क्या है P2P कैसे काम करता है Shiba Inu burn 3.3 trillon टोकन NSE क्या है Difference Between NSE and BSE in hindi Shiba Inu burn rate high 1000%