Trading क्या है ट्रेडिंग कैसे काम करती है Trading से पैसे कैसे कमाय _ 2023

Trading Account in hindi : आधुनिकता के इस युग में शेयर मार्किट से पैसे कमाना बहुत ज्यादा आसान हो गया है क्युकी हर इंसान अपना Demat Account open करवाके शेयर मार्किट में ट्रेडिंग कर पैसे कमा सकता है

लेकिन बहुत से लोगो को ट्रेडिंग के बारे में पर्याप्त जानकारी नहीं होती जिसके कारण वह ट्रेडिंग से पैसे नहीं कमा पाते इसलिए आज के इस ब्लॉपोस्ट में हम ट्रेडिंग के बारे में सम्पूर्ण जानकारी हिंदी में जानने वाले है आज के इस ब्लॉपोस्ट में हम जानेंगे की ट्रेडिंग क्या है, ट्रेडिंग कैसे करे, ट्रेडिंग से पैसे कैसे कमाय, ट्रेडिंग कितने प्रकार की होती है !

अगर आप ट्रेडिंग के बारे संपूर्ण जानकारी जानना चाहते है तो इस ब्लॉपोस्ट को अंत तक जरूर पढ़िएगा मैं उम्मीद करता हूँ की इस पोस्ट को पढ़ने के बाद ट्रेडिंग को लेकर आपके सभी Confusion दूर हो जायेंगें.

ट्रेडिंग क्या है ( What is trading in hindi )

कम समय में किसी भी शेयर या stock को कम क़ीमत पर खरीदकर ज्यादा क़ीमत पर बेच कर मुनाफा कमाना ट्रेडिंग कहलाता है बहुत से लोग शेयर बाजार में ट्रेडिंग का महीने का लाखो रूपये कमाते है

trading

ट्रेडिंग का सीधा मकशद कंपनियों के shares को कम क़ीमत पर खरीदना और क़ीमत बढ़ जाने पर मुनाफा कमा कर बेचना है ट्रेडिंग करने वाले लोगो को Traders कहा जाता है शेयर मार्किट में ट्रेडिंग कर लिए आपके पास Demat Account होना अनिवार्य है

Trading meaning in hindi

Trading का अर्थ होता है ‘ व्यापार ‘ Trading से पैसे कमाना आजकल बहुत ज्यादा प्रचलित है क्युकी इसमें आप किसी अन्य कंपनी के shares को कम क़ीमत पर खरीदकर ज्यादा क़ीमत पर बेचकर profit earn करते है इस तरह शेयर मार्किट सड़ बहुत से लोग लाखो रूपये कमा रहे है

Trading कितने प्रकार की होती है ( Types of trading in hindi )

आमतौर पर ट्रेडिंग 2 प्रकार की होती है Long term trading, Shot term trading. इन दोनों ट्रेडिंग के अंतर्गत अन्य ट्रेडिंग भी आती है जिनका इस्तमाल करके इन्वेस्टर्स रूपये कमाते है लेकिन मुख्यत ट्रेडिंग में यह 3 ट्रेडिंग बहुत ज्यादा लोकप्रिय है Swim trading, Option trading, Intraday trading.

1. लॉन्ग टर्म ट्रेडिंग (Long term ट्रेडिंग)

अब अगर किसी investor को 5 साल या इस से ज्यादा समय अवधि के लिए शेयर मार्किट में इन्वेस्टमेंट करना है तो उसे long-term investment कहते है अब कुछ इन्वेस्टर्स सोच रहे होंगे की मैं इसे इन्वेस्टमेंट क्यों कह रहा हूँ.. लेकिन अगर आपने किसी शेयर को खरीदा है तो कभी ना कभी तो बेचोगे ही इसलिए इसे long-term ट्रेडिंग कहा जाता है

long term ट्रेडिंग के अंतर्गत Delivery और Position trading आती है Delivery ट्रेडिंग के अंतर्गत आप अपने द्वारा खरीदे हुए शेयर को अपनी मर्जी के अनुसार किसी भी समय बेच सकते है

Long-term ट्रेडिंग के और भी बहुत से प्रकार है लेकिन अगर मैं इस ब्लॉपोस्ट में सभी को बताने लगूंगा तो यह ब्लॉपोस्ट बहुत ज्यादा लम्बा हो जाएगा इसलिए आप Trading ke kitne प्रकार है के बारे में जानने के लिए हमारी दूसरी ब्लॉपोस्ट को पढ़ सकते है

2. शार्ट-टर्म ट्रेडिंग (Short-term ट्रेडिंग )

Shot-tern ट्रेडिंग के अंतर्गत Intraday trading, Option trading, Swim trading जैसी ट्रेडिंग आती है जिनके बारे में हम निचे विस्तार से जानने वाले है

Join Telegram

स्विंग ट्रेडिंग (Swim ट्रेडिंग )

दोस्तों सभी ट्रेडिंग के अंदर यह ट्रेडिंग मेरी फेवरेट है कुछ दिनों से लेकर हफ्तों तक शेयर को खरीद कर profit बुक करना swim trading कहलाता है इस trading में investor का माइंडसेट बहुत ज्यादा क्लियर होता है उसे एक ऐसी कंपनी को find करना होता है जिसके अंदर से वह सिर्फ कुछ समय में 5% से लेकर 20% से तक का मुनाफा कमा पाता है

Swim trading से ज्यादा profit कमाने के लिए आपको हमेशा nifty 50 के अंतर्गत आने वाली कंपनियों के अंतर्गत इन्वेस्टमेंट करनी चाहिए क्युकी आप भारत की टॉप 50 कंपनियों में इन्वेस्टमेंट कर रहे है एक तो इनके Fundamental बहुत ज्यादा clear होते है दूसरा इन कंपनियों का Volume भी अच्छा होता है

इंट्रेड़े ट्रेडिंग (Intraday ट्रेडिंग)

ज़ब आप किसी भी शेयर को एक ही दिन में खरीद कर उसे बेच देते है तो वह Intraday trading कहलाती है अगर आप किसी कारणवस उस शेयर को एक दिन में नहीं बेच पाते तो आपका Broker आपके उस शेयर को खुद ही बेच देता है जिसके आपको कुछ extra charges भी देने पड़ते है अगर आप Intraday trading के बारे में ज्यादा जानना चाहते है तो आप हमारी दूसरी ब्लॉपोस्ट को भी पढ़ सकते है जो सिर्फ Intraday trading पर आधारित है

ऑप्शन ट्रेडिंग (Option ट्रेडिंग)

ज़ब investor Call option या Put option को खरीदता या बेचता है तो उसे ऑप्शन ट्रेडिंग कहा जाता है जो investor call option को खरीदता है मतलब वह शेयर मार्किट के bullish होने पर पैसे कमाएगा और जो investor Put Option को खरीदता है मतलब वह शेयर मार्किट के loss पर पैसे बनाएगा

Option trading में ज्यादातर 80% लोग Buyers होते है इसके विपरीत 20% इन्वेस्टर्स ही seller होते है लेकिन ज्यादा लोग Buy option में जाना चाहते है क्युकी इसमें आप 100 200 रूपये से भी trading को शुरुआत कर सकते है जबकि Seller में आपको लाखो रूपये की जरूरत होती है लेकिन 75% seller option trading में पैसे बनाते है और बाकी 25% Buyers के द्वारा पैसे बनाये जाते है

Share Market में ट्रेडिंग कैसे काम करती है (How ट्रेडिंग works in hindi )

शेयर मार्किट में trading Seller और Buyers पर निर्भर करती है अगर किसी शेयर के buyers ज्यादा है उस शेयर की क़ीमत बढ़ने लगती है लेकिन किसी शेयर की seller ज्यादा होते है उस शेयर की क़ीमत गिरने लगती है Trading सिर्फ Demand/ Volume rule पर काम करती है

ज़ब किसी शेयर की डिमांड ज्यादा होती है तो उस शेयर की क़ीमत बढ़ने लगती है लेकिन अगर किसी शेयर की डिमांड कम है तो उसकी क़ीमत गिरने लगती है

Trading करते समय किसी शेयर की क़ीमत को ज्यादा जानने के लिए आपको उसकी Bid और Ask price पर नज़र बनाये रख सकते है Bid price का मतलब की Buyer उस शेयर को किस price पर खरीदने को त्यार है इसके विपरीत Ask price का मतलब होता है की Seller किस price पर बेचने को त्यार है

ट्रेडिंग से पैसे कैसे कमाय ( trading se paise kaise kamaaye )

ट्रेडिंग से पैसे कमाने के लिए आपको कम क़ीमत पर शेयर को खरीद कर क़ीमत बढ़ने पर बेचने होते है अगर आपको शेयर की मूवमेंट पहचान करनी आ गयी तो आप शेयर मार्किट में ट्रेडिंग कर अच्छे पैसे कमा सकते है

अगर आप किसी शेयर को उसकी 52 week की कम क़ीमत पर खरीदते है तो आपके बहुत ज्यादा chance बढ़ जाते है की आप उस शेयर से अच्छे पैसे कमा सकते है

लेकिन अगर आप बिना किसी रिसर्च के उस शेयर को 52 week के high पर खरीद लेते है तो बहुत ज्यादा chance है की आपको उस इन्वेस्टमेंट में नुक्सान का सामना करना पड़े.

ट्रेडिंग से ज्यादा से ज्यादा पैसे कमाने के लिए आपको बहुत से ज्ञान की जरूरत पड़ेगी आप सोशल मीडिया mein ऐसे बहुत से प्लेटफॉर्म है जहाँ शेयर मार्किट बिकुलल फ्री में सिखाया जाता है आपको किसी से पैसे उधार लेके शेयर मार्किट में इन्वेस्टमेंट नहीं करनी है क्युकी यहां आपको बहुत ज्यादा नुक्सान का भी सामना करना पड़ सकता है

ट्रेडिंग के फायदे ( Advantage of trading )

. आओ घर बैठे ट्रेडिंग कर महीने का लाखो रूपये कमा सकते है

. ट्रेडिंग मोबाइल से भी संभव है इसके लिए आपको किसी लैपटॉप या बड़े सिस्टम की जरूरत नहीं होती

. ट्रेडिंग से आप कम समय में ज्यादा पैसे कमा सकते है

. ट्रेडिंग करने के लिए आपको किसी certificate की जरूरत नहीं होती है

. ट्रेडिंग में आपको ज्यादा नुकसान नहीं होता क्युकी अगर आपको नुकसान हुआ भी तो सिर्फ आपकी लगाई हुई capital ही डूबेगी

ट्रेडिंग के नुकसान ( Disadvantage of trading )

. ट्रेडिंग करते समय आपका mindset बहुत clear होना चाहिए वरना आपको बहुत ज्यादा नुकसान हो सकता है

. अगर आप margin लेकर ट्रेडिंग करते है तो आपको ज्यादा risk का सामना करना ऑडी सकता है

. बिना ट्रेडिंग ज्ञान के टट्रेडिंग नहीं करनी चाहिए क्युकी कमाई से ज्यादा तो उन्हें नुकसान का सामना करना पड़ता है

. ट्रेडिंग करते समय अपने ब्रोकर के charges का पता होना बेहद आवश्यक है कई बार investor को कमाई से ज्यादा charges देने पड़ते है

Conclusion

आज की ब्लॉपोस्ट में हमने Trading kya hai in hindi के बारे में विस्तार से जानने की कोसिस की है मैं उम्मीद करता हूँ की इस पोस्ट को पढ़ने के बाद आपको ट्रेडिंग की जानकारी के लिए कोई दूसरी पोस्ट नहीं पढ़नी पड़ेगी.अगर आपको आज की पोस्ट अच्छी लगी हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करे

मैं Securehindi का founder हूँ मैं BCA का student हूँ इसीलिए मैं इस ब्लॉग के माध्यम से हर भारतीय तक इन्वेस्टमेंट, ब्लॉकचैन, Crypto, की जानकारी को हिंदी मैं पहुंचना चाहता हूँ अगर आप इन सब के बारे में जानने के लिए इच्छुक है तो हमें अभी फॉलो करे

2 thoughts on “Trading क्या है ट्रेडिंग कैसे काम करती है Trading से पैसे कैसे कमाय _ 2023”

Leave a comment

Shiba Inu का Burn rate 24 घंटो में 800% तक बढ़ा / Paytm का शेयर हुआ Crash जानिए क्या थी वजह ? म्यूच्यूअल फण्ड क्या है म्यूच्यूअल फण्ड को कौन मैनेज करता है ? Sebi ने किया बैन, रजिस्ट्रेशन के बिना निवेश से जुडी सलाह दे रहे थे Suzlon Energy में इस कंपनी की हिसेदारी हुई 5% के पार