Rom kitne Type ki hoti hai all information in hindi

तो दोस्तों आज हम बात करने वाले है Rom  के बारे में यह क्या होती है और कैसे काम करती है। अपने Rom  का नाम तो पहले भी सुना ही होगा। लेकिन अगर आप Rom  के बारे में और भी गहराई से जानना चाहते है

तो आप बिकुल सही पोस्ट पर आये है। आज हम आपको Rom  के बारे में सभी जानकारी इस पोस्ट के माध्यम से देने वाले है।  

Rom kya hai ?

Rom  की फुल फॉर्म “Read only memory” होती है इसके अंदर के प्रोग्राम को सिर्फ read  कर सकते है उसे हम न तो commands  दे सकते है और न ही उसमें किसी भी टाइप के कोई बदलाव कर सकते है

Rom  को बनाते टाइम ही उसके अंदर के प्रोग्राम को डिज़ाइन किया जाता है एक बार बनने के बाद में उस प्रोग्राम में कोई बदलाव नहीं किया जा सकता है उसे बनाने वाले वाले ने एक बार जो प्रोग्राम बना दिया फिर वो फिक्स हो जाता है।

Rom  के अंदर के प्रोग्राम को कंप्यूटर या कोई अन्य डिवाइस read  करके परफॉर्म करता है आएये इसे एक उदाहरण सहित समझते है,

मान लीजिये की आपने अपने डिवाइस के अंदर 4 या 5 अप्प्लिकशिन साथ में ओपन किये हुए है और डिवाइस के बंद होने के बाद में वो एप्लीकेशन आटोमेटिक बंद हो जाती है। यानी पावर off  होने के बाद में डिवाइस के अंदर की एप्लीकेशन खुद ही बंद हो जाती है

तो यह सब कार्य कोई भी डिवाइस Rom  की सहायता से कर पाता है Rom  के अंदर दिए गए commands  को read  करके डिवाइस अपने एप्लीकेशन को run  करता है। तो यह सब एक ROM  की मदद के कारन से हो पाता है। हम उम्मीद करते है की आपको पता चल गया होगा की ROm  क्या होता है और कैसे काम करती है।

Read Also;

Pinterset kya hai. Iska istmaal kaise kre in hindi.

E-Rupi(digital payment) kya hai. iska istmaal kaise kre.

Quora Kya hai. Create free blog in hindi

Types Of Rom ?

आमतौर पर कंप्यूटर को चालू करने का काम Firewarm  का है जो की Rom  में होता है आपको बता दे कंप्यूटर को चालू होने की कमांड भी Rom  के द्वारा दी जाती है। Rom  को 4 भागो में बाटा गया है जिनको निचे और अच्छे से expalin  किया गया है।

MROM (Masked read only memory)

MROM  को सबसे पहले रखा गया है लेकिन आजकल के समय में इसका इस्तमाल करना काफी काम हो गया है पहले के devices  में इसका इस्तमाल काफी किया जाता था लेकिन टेक्नोलॉजी के बढ़ते इस चलन में इसका इस्तमाल होना बंद हो गया है

क्युकी दोस्तों इस जब manufacture  किया जाता है तो उसी समय इसमें जो programe  बना दिया जाता है वो प्रोग्राम फिक्स हो जाता है

उसे बाद में बदला नहीं जा सकता है और न ही उसमें कोई अन्य commands  को ऐड किया जा सकता है और उस समय में ये ROM काफी costly भी होती थी। अगर इस टाइप की Rom  में किसी प्रकार की कोई खराबी आए जाती थी।

तो पूरी ROM को बदलना पड़ता था क्युकी इसमें Pre-programme Run  होता था।

PROM (Progammable read only memory )

दोस्तों PROM  को दूसरे नंबर पर रखा गया है क्युकी इसे एक बार अपडेट किये जाता है मतलब जब इस चिप को मनुफक्टोरे किया जाता है

तो यह बिकुल blank  यानी खाली होती है इसमें किसी भी प्रकार का कोई भी प्रोग्राम नहीं होता है यूजर इसे बिलकुल खाली खरीदता है और फिर इसमें अपने हिसाब से प्रोग्राम को बनता है

लेकिन इसमें एक बार प्रोग्राम को अपडेट करने के बाद में उसमें कोई भी बदलाव नहीं किया जा सकता है। लेकिन यूजर को एक मौका जरूर मिलता है

अपने हिसाब से अपनी चिप को अपडेट करने का अपडेट के बाद में यूजर उसमें कोई बदलाव नहीं कर सकते है। इस चिप में छोटे- छोटे ‘fuse’ होते है जिनकी मदद से यूजर इसे डिज़ाइन कर पाटा है।

EPROM ( Eraseble and programmable read only memory )

आपको जैसा इसके नाम से ही पता चल रहा है की इसका एक बार इस्तमाल करने के बाद में इसके डाटा को Erase  करके दोबारा से इस्तमाल किया जा सकता है।

यह ROM  के पहले वाले 2 भागो से बिलकुल ही अलग है उनका दोबारा इस्तमाल नहीं किया जा सकता है लेकिन इसे हम दोबारा से इस्तमाल कर सकते है।

दरअसल में दोस्तों जब हम इस तरह की चिप को खीरदते है तो इस चिप के साथ में एक पारदर्शी ग्लास भी दिया जाता है जिकी मदद से हम कुछ विषेस प्रकार की परबंगनी किरणों को चिप पर डालते है

जिस से चिप पर मौजूद डाटा इरेस हो जाता है और फिर हम उसका दोबारा से इस्तमाल कर सकते है।

EEPROM ( Eliectrically Eraseable and programmable read only memory )

जैसे अपने ऊपर पढ़ा दोस्तों की बहुत सी छिपो का इस्तमाल पहले के जमाने में होता था लेकिन आज के जमाने में उनका इस्तमाल नहीं होता उनकी बजाए में EEPROM  चिप्स ने लेली है।

जो आज के चलन में काफी लोकप्रिय है और बहुत ही ज्यादा इस्तमाल की जाने वाली चिप है। चुकी इसके नाम से ही पता चल रहा है की इसका इस्तमाल यूजर 1 बार नहीं 2 बार नहीं बल्कि 1000 से भी ज्यादा बार कर सकता है

इस चिप के डाटा को आप बहुत बार erase  करके बहुत बार rewrite  कर सकते हो। एहि कारण है की यह चिप आज के जमाने में बहुत ज्यादा इस्तमाल की जाती है

लेकिन दोस्तों इस चिप में एक बार में डाटा को मिटाया जा सकता है लेकिन एक बार में लिखा नहीं जा सकता है जिस कारण से यह बहुत ही ज्यादा धीमी प्रिक्रिया है

Rom Kaise Kaam Krta hai ?

किसी भी डिवाइस में Rom  एक Human  के mind  की तरह काम करता है जब आप अपने कंप्यूटर का इस्तमाल करते हो तो बाकी सब हार्डवेयर की मौजूदगी का पता होना Rom  का काम होता है। चलिए दोस्तों इसे हम एक बहुत ही अच्छे उदाहरण की मदद से समझते है,

मान लीजिये की आपके पास आपकी human body  है। लेकिन आपको यह कैसे पता चलेगा की उस body  में आपके पास में 2 हाथ, 2 पाँव, 2 आँख, और 2 कान इत्यादि है।

आप इन सबसे से किस तरह का काम करवा सकते हो। यह सब जानकारी आपको आपके Mind  के द्वारा पता चलती है की आपके पास क्या है और आप किस अंग से कोनसा काम करवा सकते हो। उसी प्रकार कम्प्यूटर्स को किन हार्डवेयर का इस्तमाल कब करना है और किस टाइप से करना है यह सब Rom  के द्वारा पता लगता है।

इस तरह की मेमोरी को non-volatile मेमोरी भी कहा जाता है ROM  को कंप्यूटर बनाते वक़्त ही बनाया जाता है क्युकी इसके अंदर के प्रोग्राम को दोबारा से डिजाइन नहीं किया जा सकता है लेकिन आजकल के समय में BIOS Chip  मार्किट में आ गयी है।

जिनका इस्तमाल करने के बाद भी हम उनके डाटा को Erase  करने के बाद में दोबारा से इस्तमाल कर सकते है लेकिन पहले बनने वाली ROm  में कोई issue  आने पर पूरी की पूरी ROm  को बदलना पड़ता था।

Advantage OF Rom

Rom kya hai in hindi
Rom kya hai kaise kaam krti hai full detailed post

दोस्तों अब तक अपने जान लिए है की Rom  क्या होती है और कैसे काम करती है और इसका इस्तमाल कैसे करे ? लेकिन अब हम जानेगे की एक ROM  की विवसेसताएं क्या होती है ।

. यह Ram  की तुलना में काफी हद तक सस्ता होता है और उस से ज्यादा टिकाऊ भी होता है।

. इसकी मदद से हम डाटा को permanently  स्टोर कर सकते है।

. इसमें प्रोग्राम लिखते समय काफी ध्यान रखना पड़ता है क्युकी एक बार प्रोग्राम लिखने के बाद में आप उसे दुबारा से बदल नहीं सकते है।

. इसे बार बार रिफ्रेश करने की जरूरत नहीं होती है

. यह Non-Voltile प्रोग्राम होता है यानी पावर के बंद होने के बाद में भी इसमें डाटा बिलकुल सुरक्षित रहता है।

Conclusion ?

आज की पोस्ट में हमने ROM  के बार में बात की और सीखा की यह कैसे काम करती है और क्या होती है। हम उम्मीद करते है की जिस उम्मीद से हम पोस्ट को लिखते है

आपको हमारी पोस्ट पड़ने के बाद में उस टॉपिक के लिए कही और जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। अगर फिर भी आपका कोई न कोई सवाल रह जाता है टॉपिक को लेकर तो आप हमे निचे कमेंट में पूछ सकते है।

और अगर जानकारी अछि लगी हो तो अपने दोस्तों के साथ में शेयर करना न भूले। सोशल मीडिया पर सहरे करके हमारा मनोबल जरूर बढ़ाये।

2 thoughts on “Rom kitne Type ki hoti hai all information in hindi”

Leave a comment

Aadhar Housing Finance का IPO, निवेश का अच्छा मौका ? Lovely Inu Coin कब जायेगा $1 तक ? ऑस्ट्रेलिया में Iphone users के लिए Shiba Game लॉन्च किया गया है Shiba को पीछे छोड़ होल्डिंग में आगे बढ़ा Babydoge ? Shiba Inu game ‘Shib Eternity’ को Australia में लॉन्च किया गया ?